एन.एल.पी. - जीवन रूपांतरण की किमया

NLP_Coaching_Life_Transformation
जीतने के लिए आपके पास दृढ़ निश्चय होना चाहिए - मिल्खा सिंग

 

कुछ साल पहले मैंने मिल्खा सिंग का एक साक्षात्कार (इंटरव्यू)  देखा था । उसके कुछ अंश आज मैं आपके साथ शेअर करना चाहूँगा ।

इंटरव्यूअर - रनिंग जैसे खेल में आप का आर्मी से नॅशनल लेवल और नॅशनल लेवल से इंटरनॅशनल लेवल तक के प्रवास के बारे में क्या कहेंगे?

मिल्खा सिंग – पहले मैं अपने सेंटर के अंदर फर्स्ट आया, फिर ब्रिगेड की गेम्स होती हैं, वहाँ मैं फर्स्ट आया, फिर डिफेन्स सर्विसेस् की प्रतियोगिताएँ होती हैं, जिन में आर्मी, एअरफोर्स और नेव्ही, सब फोर्सेस् पार्टिसिपेट करते हैं, उसमें भी मैं फर्स्ट आया । फिर मेरा सिलेक्शन हुआ नॅशनल गेम्स के लिए, तो नॅशनल गेम्स खेलने चला गया, नॅशनल गेम गेम्स में बहुत पसीना बहाया और वहाँ पर मैं चौथे स्थान  पर रहा । किन्तु वहाँ पर मेरा प्रदर्शन देखने के बाद कॅम्प के लिए चयन किया गया । तो वहाँ पर मैं बहुत हार्ड प्रॅक्टीस करता था, मेरी जी तोड़ मेहनत देखकर मेंरे साथी खिलाड़ी कोच से कहते थे कि यह लड़का इतनी हार्ड प्रॅक्टीस से मर जाएगा, हम से इतनी प्रॅक्टीस नहीं होगी । तो कोच मुझसे कहता था कि आप चैम्पियन बनोगे और ये पीछे रह जाएँगे ।

इंटरव्यूअर- लेकिन सर आप इतना ट्रेनिंग कैसे करते थे?

मिल्खा सिंग - बात उस समय की है, जब मेलबर्न में हुए दौड़ प्रतियोगिता के लिए भारत की ओर से दौड़ने के लिए मेरा चयन हुआ था, वहाँ पर एक प्रतिभागी चार सौ मीटर की रेस में फर्स्ट आया, मैं तो पहले ही राउंड में बाहर हो गया था, जब मैं प्रतियोगिता से बाहर हुआ, उसी समय मैने धरती माँ की कसम खाई, ‘जब तक कि मैं वर्ल्ड रिकॉर्ड नहीं तोड़ता, तब तक मैं आराम से नहीं बैठूँगा ।’ मैं इतनी प्रॅक्टीस किया करता था कि लगभग एक बकेट पसीना मेंरे शरीर से निकलता था, कितनी बार खुन की उल्टियाँ होती थीं, कभी-कभी तो पेशाब के जरिये भी खुन निकलता था, लेकिन मेरा इरादा मज़बूत था कि चाहे मैं मर जाऊँ, पर अपना सपना पूरा होने के बाद ही रूकूंगा । बहुत तकलीफ होती थी पर मेरा इरादा मज़बूत था, मैं यह करके रहूँगा  चाहे कुछ भी हो जाए ।

अब सवाल यह है कि यह ‘मज़बूत इरादा’ क्या है? आप किसे ‘मज़बूत इरादा’ कहेंगे? जिससे कामयाबी मिलती है? क्या हम यह मज़बूत इरादा सीख सकते हैं? जिंदगी में कामयाबी हासील करने के लिए मज़बूत इरादा चाहिए, यह तो हम सब जानते हैं, पर कितने लोगों  में यह मज़बूत इरादा दिखता है ? किस प्रकार से इस मज़बूत इरादे को मैं अपने जीवन में खड़ा कर सकता हूँ? इसकी दिमागी प्रकिया या प्रोसेस क्या है? कैसे??? हाउ???

हम सभी जानते हैं कि कामयाबी के लिए जिंदगी में करना क्या है, सभी मोटिवेशनल स्पीकर्स भी हमेशा यही समझाते हुए पाए जाते हैं । उनके अभिभाषण में से आप कुछ सर्वमान्य उपदेश आसानी से ढूंढ पाएँगे, जैसे कि सकारत्मक रहे, स्वयं का  दृष्टिकोन बदलें, आगे बढ़ने का प्रयास करें, उच्च लक्ष्यों स्थापना करें, समय का उचित प्रबंधन करें, स्वयं पर पूर्ण विश्वास करे, सातत्य रखे, आनंदी रहे, खुश रहे, उत्साही रहे, इ. याने कि जिंदगी में ‘क्या करना है?’ यही हमेशा सीखाया जाता रहा है और वे ही बातें हम भी दूसरों को सिखाते आये हैं । पर इससे कुछ भी तो नहीं होता । ‘जीवन में क्या करना है?’ सिर्फ यह समझ आने से कोई परिवर्तन नहीं आता, हमें वह ‘किस प्रकार से करना है?’ यह समझने से ही परिवर्तन आएगा । ‘क्या करना है?’ इससे ज्यादा ‘कैसे करना है?’ यह समझना ज्यादा महत्वपूर्ण है ।

एन.एल.पी. में हम ‘क्या?’ नहीं, तो ‘कैसे?’ का जवाब ढूंढते हैं । जब कोई भावना या विचार हमारे दिमाग में निर्मित होता है, तब सही में हमारे दिमाग में होता क्या है, यह हम एन.एल.पी. में सीखते हैं । जब कोई मोटीवेट होता है, तो उसके दिमाग में क्या होता है? जब कोई निराशा से घिर जाता है, तो उस पल उसके दिमाग में होता क्या है? इसके बारे में एन.एल.पी. हमें सटीक जानकारी देता है ।

एन.एल.पी. में हम दिमागी प्रक्रियाएँ सीखते हैं । मज़बूत इरादा क्या है? जब भी यह मज़बूत इरादा खड़ा होता है, तब हमारे दिमाग क्या घटता है? जो कुछ घटता है, उसे हम एन.एल.पी.में सीखते हैं । एक बार मज़बूत इरादे की ‘दिमागी प्रकिया’ हमें समझ में आ जाएँ, तो हम यह मज़बूत इरादा स्वयं में और दूसरों में भी खड़ा कर सकते हैं । एन.एल.पी. में इसे मॉडलिंग कहा जाता है । इसीलिए एन.एल.पी. अलग है, क्योंकि यह हमें ‘कैसे?’ या ‘How?’ का जवाब ढूंढने में मदद करता है, जिससे हम अपने जीवन को परावर्तित कर सकें ।

 

अगर आपको पता है कि किस प्रकार से दिमाग को चलाया जा सकता है, तो आप आपके दिमाग को एक दिशा दे सकते हो और अगर आपने यह काम नहीं किया, तो कोई और करेगा ।
- रिचर्ड बॅन्डलर

 

साथ ही साथ एन.एल.पी. में हमें ब्रेन कंडीशनिंग के टूल्स् सीखाये जाते हैं । सिर्फ उच्च लक्ष्य की स्थापना से कुछ नहीं होता । दुनिया में बहुत सारे ऐसे लोग हैं, जिन्हें अपना लक्ष्य सालों से पता है, पर उन्होंने कभी एक्शन ही नहीं ली है । लक्ष्य की स्थापना के साथ लक्ष्य की ब्रेन कंडीशनिंग होना भी बेहद जरूरी है । लोग गोल सेटिंग तो करते हैं, पर गोल कंडीशनिंग नहीं । हमारा लक्ष्य या सपना हमारे लिए इतना आकर्षक होना चाहिए कि उसके लिए कार्य किए बिना हमें चैन नहीं आना चाहिए । हमें एक आकर्षक भविष्य का निर्माण करना होगा, जिसकी हमारे दिलों दिमाग पर गहरी छाप हो । इसे कहते हैं ‘कंडीशनिंग’ । एन.एल.पी. में हम कंडीशनिंग सीखते हैं, जिससे हमारे सपनें साकार होते हैं । साथ ही साथ यदि हमारी निगेटिव्ह कंडीशनिंग हुई है, तो उससे हम सहजता से निजाद पा सकते हैं । कंडीशनिंग के क्षेत्र में एन.एल.पी. को महारत हासील है । एन.एल.पी. में हम कंडीशनिंग के बहुत सारे जादुई और ताकदवर टूल्स् और एवं टेक्निक्स् सीखते हैं ।

 

 अगर आपको आपके जीवन में नए परिणाम लाने हैं, तो सबसे पहले आपको एक नई सोच लानी होगी ।
- रिचर्ड बॅन्डलर

 

साथ ही साथ एन.एल.पी. में हम अलग-अलग पॅटर्नस् भी सीखते हैं । ये पॅटर्नस् हमें सोचने का एक अलग ढंग सिखाते हैं, या कहो अलग ढंग से सोचना सिखाते हैं । जिससे हम अंतर्मन में दृढ़ हुई बूरी सूचनाएँ, हमारे भय, हमारे फोबिया, बूरी यादें, दु:ख, बूरे संबंध, जिंदगी के गलत फैसले और उनकी स्मृतियों से आजाद हो सकते हैं । साथ ही साथ हम अपनी सालों पूरानी नकारात्मक आदतें पलभर में बदल सकते हैं । अच्छे आरोग्य की प्राप्ति, नकारात्मक भावनाओं से छुटकारा और सकारात्मक भावनाओं का अंगिकार कर सकते हैं । सबसे महत्वपूर्ण हम जिंदगी का ज्यादा मजा लेने लगते हैं । प्यार करना, दूसरों से अच्छे संबध बनाना, बिना हिचकिचाहट बड़े फैसले करना तथा उन पर अडिग रहते हुए अमल करना, ज्यादा पैसे कमाना आदि सब कुछ बहुत सरलता से  सीख सकते हैं ।   

इसी संदर्भ में कुछ नया सीखने के लिए अब अगले ब्लॉग में मिलते हैं,

तब तक के लिए ....

‘एन्जॉय यूवर लाईफ एंड लिव्ह विथ पॅशन !’

आप भी चाहते होंगे कि आपका व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन सफलता की नई बुलंदियों को छुएं, तो निश्चित ही आप एन.एल. पी. के जादुई और ताकदवर तकनीकों को सीखने के लिए भी बेहद उत्सुक होंगे ।
एन.एल.पी. कोर्सेस के बारे में जानने के लिए यहाँ क्लिक करें, या मुंबई, पुणे, दिल्ली, अहमदाबाद या बैंगलोर में एन.एल.पी. प्रैक्टिशनर प्रशिक्षण में भाग लेने के लिए हमें आज ही संपर्क करें - +919834878870 या हमें लिखिए [email protected]
Summary:

If you are looking for the answers to the following questions like:

1. What is NLP?

2. What does NLP teach?

3. What are the benefits of NLP?

4. How can we change our life with NLP Training?

5. How is NLP different from Personality Development Workshops?

6. How can NLP transform my life?

7. How does NLP work?

8. How NLP Tools & Techniques can be used in daily life?

Then this blog is for you. Here NLP Master Trainer, Founder & CEO of IBHNLP, Sandip Shirsat explains the magical power of NLP tools & techniques in Hindi. According to him, NLP doesn’t teach us ‘What should be changed?’, because most of the time, we are aware of that answer, NLP talks about ‘How something should be changed?’, NLP focuses on

- How to bring the desired changes in our thinking, emotions, feelings or behavioural patterns?

- How to produce specific results which make our life happier?

- How to attract success, fulfilment & satisfaction?

- How to condition our brain for achieving success?

NLP teaches us success modelling tools. In NLP Courses of The Indian Board of Hypnosis & Neuro-Linguistic Programming (IBHNLP), participants are trained in a wide range of NLP skills like conditioning, sensory acuity, rapport building, timeline, anchoring etc. After successfully completing the NLP Training Course, as an NLP practitioner, you literally start running your own brain. NLP tools & techniques enable you to initiate concrete change in human behaviour. Now it has become very easy to get the NLP Training in Mumbai, Pune, Delhi, Ahmedabad and Bangalore, because IIBHNLP, the best NLP Training Institute in India, is offering real NLP stuff at a very affordable price with the money-back guarantee.

Register today to get the best quality NLP Training & Coaching from India’s well-known best NLP Master Trainer & Coach, Sandip Shirsat. Click here to get more details of our Upcoming NLP Practitioner, NLP Coach, Hypnosis Practitioner & Life Coach Certification Course in Mumbai, Pune, Bangalore, Delhi, & Ahmedabad.

Call Satish @ +919834878870 or mail us @ [email protected] for more information.